Close
Skip to content

साहित्य विमर्श एंड्रॉयड एप


5 1 वोट
पोस्ट को रेट करें

             “रधिया चल कपड़े धो।”

             “माँ ,मैं बहुत थक गई हूं ,दर्द भी बहुत हो रहा, सुबह से काम कर रही हूं।”

            “अरी तो क्या काम न करेगी? चल उठ।”

            “कपड़े धो कर रसोई में पड़ा साग काट देना।”

         रधिया , माँ के इस व्यवहार से बहुत आहत थी। उसकी क्या गलती है। खेत  में बापू को खाना देने गयी,आते समय दबंगों ने पकड़ लिया। उनकी दरिंदगी का शिकार हुई। 3 दिन घायल अवस्था में अस्पताल रही। पुलिस आयी। कुछ दिन बाद दबंग  तो छूट गए पर रधिया हमेशा के लिए कैद हो गयी। अब रधिया 7 माह की गर्भवती है। इतनी  छोटी की 4 महीने तक तो उसे गर्भ का पता ही न चला !

          माँ तो जैसे उसे ही दोषी मानती है।  बापू  नफरत से देखते  हैं। घर से बाहर  जाने की मनाही है।लोग बातें बनाते  हैं।

         कपड़े धो कर रधिया रसोई में गयी। साग काटते हुए तेज दर्द हुआ। रधिया जोर से चिल्लाई। माँ ने आकर देखा -समझ गयी प्रसव पीड़ा है। दौड़ कर दाई काकी को बुलाया।

         “काकी अभी तो सातवां महीना ही है!”

          “तू पानी गर्म कर,इतना काम  कराया लड़की से ! ये तो  होना ही था।” काकी  ने रधिया की हालत को  देख कर कहा।

          रधिया दर्द से तड़प रही थी।

          ” रधिया ज़ोर लगा। बस बस हो गया| “

           एक तेज दर्द के साथ रधिया निढाल हो गयी।

          ” रधिया की माँ , बच्चा मरा हुआ पैदा हुआ है। ..कहानी खत्म!”

            कमरे में सन्नाटा पसरा है। रधिया की आंख के कोने से आंसू लुढ़क कर गालों पर ठहरे हैं ! पर माँ के चेहरे पर  असीम सन्तोष है !

5 1 वोट
पोस्ट को रेट करें

सबस्क्राइब करें
सूचित करें
guest
0 टिप्पणियाँ
इनलाइन प्रतिक्रिया
सभी टिप्पणियाँ देखें

.

खजूर की छाँव     

डॉ संगीता गांधी

शिक्षिका व लेखिका साहित्यिक परिचय ----------------------- लघुकथा कलश, आस-पास से गुज़रते हुए ,सहोदरी लघुकथा, नए पल्लव 2, समकालीन प्रेम संबंधी लघुकथाएं, संग्रहों में लघुकथाएं प्रकाशित मुसाफिर ,सहोदरी सोपान ,कविता प्रसंग संग्रहों में कविताएँ प्रकाशित । कहानी प्रसंग ,व्यंग्य प्रसंग संग्रहों में क्रमशः कहानी व व्यंग्य रचनाएँ प्रकाशित । दृष्टि ,अट्टहास ,निकट ,अनुगुंजन ,विभोम स्वर ,शतदल समय, सरस्वती सुमन ,प्रणाम पर्यटन ,नवल ,शैलसूत्र, प्राची, अविराम साहित्यिकी, सत्य की मशाल, आधुनिक साहित्य, ककसाड़, अहा ज़िन्दगी, नायिका, सुरभि व अन्य पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित ।
0
आपके विचार महत्वपूर्ण हैं। कृपया टिप्पणी करें। x
()
x