Close
Skip to content

4 Comments

  1. abhishek kumar
    January 23, 2018 @ 5:46 pm

    आठवीं कक्षा में पढ़ी थी यह जबर्दस्त कहानी।मजा आ गया फिर से पढ़कर

  2. chandan kumar
    January 24, 2018 @ 6:11 pm

    मजेदार।
    बचपन की यादें

  3. परमजीत
    March 6, 2019 @ 1:48 pm

    मजेदार

  4. धनपाल तोमर
    June 2, 2020 @ 7:46 pm

    अच्छी कहानी है ।

Leave a Reply