Close
Skip to content

7 Comments

  1. विकास नैनवाल
    January 24, 2019 @ 5:25 pm

    बेहतरीन मज़ा आ गया।

    • आनंद
      January 24, 2019 @ 8:00 pm

      धन्यवाद विकास भाई

  2. Mukesh Devrani
    January 25, 2019 @ 12:48 pm

    बढ़िया शरुआत वाली कहानी अंत में गड़बड़ा गयी।वसीयत बीबी के नाम करके बदला लेने की बात महफ़िल में मौजूद अपने अपने क्षेत्रो के दिग्गजों को कैसे हजम हुई?
    चार्ली का कातिल निकलना भी कहानी में अपेक्षित ट्विस्ट पैदा नहीं कर पाया।
    कहानी कहने का अंदाज पाठकों को बांधे रखने में सक्षम है।

    • आनंद
      January 25, 2019 @ 1:07 pm

      धन्यवाद मुकेश जी

  3. शोभित गुप्ता
    January 25, 2019 @ 2:08 pm

    शानदार, मज़ा आ गया.. चार्ली का पार्टी में होना थोडा संशय डाल तो रहा था पर वही निकलेगा ये नहीं सोचा था.

  4. Hitesh Rohilla
    January 26, 2020 @ 9:32 am

    बढ़िया कहानी। शानदार शुरुआत। लेकिन बस अभी मज़ा आना शुरू ही हुए था कि समाप्त हो गई। आपके प्रयास को साधुवाद।

  5. विक्की
    March 17, 2020 @ 6:52 pm

    कातिल पकड़ा नही गया ….. भले उसने बदल लिया लेकिन हत्या किया कहानी का अंत उसे पकड़वाना था न
    बढ़िया कहानी

Leave a Reply