Close
Skip to content

20 Comments

  1. धर्मेंद्र
    September 12, 2018 @ 1:52 pm

    वाह बहुत बढ़िया कहानी
    परम् सर की कहानी लाजवाब होती है हमेशा

    • PARAMJIT
      September 13, 2018 @ 1:36 pm

      बहुत बहुत शुक्रिया धर्मेद्र …और इतनी तारीफ मत कर कि मैं सातवें आसमान में जा पहुंचू ….लव यू

  2. Heera Verma
    September 12, 2018 @ 1:53 pm

    बहुत ही शानदार प्रस्तुति,हार्दिक अभिनंदन आपका।
    हर कदम पर चक्करघिन्नी बना दिया
    बहुत उम्दा

    • PARAMJIT
      September 13, 2018 @ 1:37 pm

      बहुत बहुत शुक्रिया धर्मेद्र …और इतनी तारीफ मत कर कि मैं सातवें आसमान में जा पहुंचू ….लव यू

    • PARAMJIT
      September 13, 2018 @ 1:39 pm

      थैंक्यू हीरा जी I कहानी को इतना पसंद करने के लिए बहुत बहुत आभार …

  3. विक्की
    September 12, 2018 @ 2:00 pm

    परमाणू भैया क्या गज़ब लिखे ये सही है या कहानी है पर जो भी है वास्तविक ही लगा मुझे
    मजा आगया
    एक बार और पढ़ा था इसको FB में
    आज फिर पढ़ा
    ????????

    बहुत कुछ याद आता इस कहानी से??

    • PARAMJIT
      September 13, 2018 @ 1:45 pm

      थैंक यू विक्की भाई I मुझे भी बड़ा मजा आया था इस कहानी को लिखने में …. और हाँ और बहुत कुछ क्या याद आता है इस कहानी से …???

  4. Hitesh
    September 12, 2018 @ 2:01 pm

    Bahut badhiya param bhai

    • PARAMJIT
      September 13, 2018 @ 1:51 pm

      THANKS HITESH
      बस इसी तरह हौसला बढ़ाते रहो भाई …इससे और बेहतर लिखने की प्रेरणा मिलती है मुझे
      फिर से आभार I

  5. Ashish bhargava
    September 12, 2018 @ 2:09 pm

    आपकी कहानियां तो पहले भी पढ़ी हैं, आपकी प्रेम कहानी में जो आपने गीतों का उपयोग किया है वो कहानी का सबसे मजबूत पहलू है । बधाई ।

    • परमजीत
      September 12, 2018 @ 2:27 pm

      बहुत बहुत शुक्रिया आशीष जी इस हौसलाअफजाई के लिए। भविष्य में इससे भी बेहतर रचनाओं का सृजन करने के लिए आपके कमैंट्स संजीवनी बूटी का काम करेंगे।
      आभार

  6. परमजीत सिंह
    September 12, 2018 @ 2:23 pm

    सबसे पहले राजीव रंजन सिन्हा जी का मैं आभार व्यक्त करता हूँ जिन्होंने मेरी रचना को साहित्य विमर्श में स्थान दिया। इस मंच में मेरी कहानी का आना ही अपने आप में एक उपलब्धि है। अब तक मिले कमेंट से मैं अभिभूत हूँ और भविष्य में इससे बेहतर लिखने के लिए प्रेरित भी। एक बार फिर से आभार सबका

  7. Puneet
    September 12, 2018 @ 3:57 pm

    Param u are really param??.jokes apart, all the colours of life are there in your story.Keep writting..

    • PARAMJIT
      September 13, 2018 @ 1:48 pm

      Thanks Puneet ji …Im greatful to you for this wonderful comment and I hope you will also meet your ex in the same situation very soon .

      Thanks again for ur inspiring comment .

  8. Amit Wadhwani
    September 12, 2018 @ 5:24 pm

    परमजीत, इनकी कहानी पहले भी फेसबुक पे पढ़ चुका हूँ, इनकी कहानियों की ये खासियत है कि जासूसी विधा के शैदाई होने की वजह से इनकी लिखी रोमांटिक कहानियों में भी जासूसी कहानियों की तरह कई घुमाव और मोड़ होते है जिससे कहानी में थ्रिल तो पैदा होता ही है पर साथ ही में कहानी की रफ़्तार और रोचकता भी बढ़ जाती है, ऊपर लिखी कहानी भी इसी बात को प्रमाणित करती है,
    परमजीत जी को सुंदर कहानी के लिए बधाई ।

    • PARAMJIT
      September 13, 2018 @ 1:53 pm

      इतने सुंदर ढंग से तारीफ़ करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया सर जी I बंदा मश्कूर है आपका और सदा रहेगा I
      बहुत बहुत आभार I

      • परमजीत
        June 1, 2019 @ 5:48 pm

        बहुत बहुत शुक्रिया नेहा जी। आभार आपका

  9. नेहा साहू
    May 11, 2019 @ 8:10 pm

    ये कहानी मेरी भी है । मेरी आँख भर आयी

    • परमजीत
      June 1, 2019 @ 5:49 pm

      आप भी अपनी कहानी अवश्य लिखे। पुनः आभार

  10. नेहा साहू
    May 11, 2019 @ 8:13 pm

    बहुत ही भावुक कहानी है । परम जी

Leave a Reply